. “ऐतबार की हद पूछते हो तो सुनो… उसने सुरज को चाँद कहा… और हम दिनभर धूप में जलते रहे…”


Loading
0 0