. “इश्क़ के ख़याल बहुत हैं.. इश्क़ के चर्चे बहुत हैं.. सोचते हैं हम भी कर ले इश्क़.. पर सुनते हैं इश्क़ में खर्चे बहुत हैं “


Loading
0 0