. अब तुझसे शिकायत करना,मेरे हक मे नहीं क्युकी तू आरजू मेरी थी,पर अमानत शायद किसी और की ।


Loading
0 0