. “इस मोहब्बत की किताब के दो ही सबक याद हुये, कुछ तुम जैसे आबाद हुये, कुछ हम जैसे बर्बाद हुये….!”


Loading
0 0