. “आदत मुस्कुराने की बनाईये जनाब, रुठती तो हसीनाऐ है ।”


Loading
0 0