. “सुधरी हे तो बस मेरी आदते वरना मेरे शौक वो तो आज भी तेरी औकात से ऊँचे हैं ।”


Loading
0 0