. “यूँ तो वजह बहूत हैं मेरे रूठ जाने की मगर… इस ख्याल से चुप हूँ कि मनायेंगा कौन…”


Loading
0 0