. “ऐ बादल! मेरी आँखे तुम रख लो… कसम सें बड़ी माहिर हैं बरसने मे…”


Loading
0 0